एलोवेरा के प्रमुख फायदे और नुकसान Aloe vera ke fayde aur nukshan Hindi


एलोवेरा के फायदे और नुकसान | Aloe vera ke fayde aur Nuksan Hindi

धृतकुमारी का इस्तेमाल सौंदर्य वर्धक के लिए बहुत ज्यादा होता है। हालांकि इसका इस्तेमाल सभी बीमारियों के लिए लाभकारी है। भारत में एलोवेरा का प्रयोग पारंपारिक चिकित्सा में किया जाता है।

एलोवेरा क्या है। : What is Aloe vera ? / Aloe vera ke fayde


Aloe vera ke fayde/ एलोवेरा को हिंदुस्तान में धृतकुमारी के नाम से भी जाना जाता है। एलोवेरा एक औषधीय पौधे के रूप में विश्व विख्यात है। एलोवेरा को प्राचीन समय से ही एक औषधि पौधे के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। इसका उल्लेख प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथों में भी मिलता है। धृतकुमारी एक बहुत ही छोटे तने का गद्देदार और रसीला पौधा होता है जिसकी लंबाई 60 से 100 सेंटीमीटर तक होती है। एलोवेरा की पत्तियां गद्देदार होती है जिसका कारण है एलोवेरा के पत्तियों में भरपूर मात्रा में  रस का होना। एलोवेरा के रस बड़े ही कड़वे स्वाद के होते हैं। एलोवेरा मुल्यतः उत्तरी अफ्रीका का पौधा है जो पूरे विश्व में पाया जाता है।

( सौंदर्य वर्धक )

धृतकुमारी का इस्तेमाल सौंदर्य वर्धक के लिए बहुत ज्यादा होता है। हालांकि इसका इस्तेमाल सभी बीमारियों के लिए लाभकारी है। भारत में एलोवेरा का प्रयोग पारंपारिक चिकित्सा में किया जाता है। यह सभी बीमारियों के लिए लाभकारी तो है। लेकिन अगर इसको ज्यादा मात्रा में निगल लिया जाए तो यह हानिकारक भी हो सकता है। सभी देशों में एलोवेरा की खेती अब बड़े पैमाने पर शुरू की जा रही है। इस पौधे का इस्तेमाल घरों में सजावटी पौधे के रूप में भी किया जा रहा है। 

एलोवेरा में 12 – विटामिंस , 15 – एमिनो एसिड , 18 – धातु मौजूद होते हैं जो खून की कमी को दूर करता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। धृतकुमारी का इस्तेमाल रोजाना तौर पर भी किया जा सकता है । अगर आप एक गिलास नारियल पानी के साथ दो चम्मच एलोवेरा के रस या उसके गुद्दे मिलाकर पीते हैं तो गर्मियों में लू लगने का खतरा नहीं रहता है।

यहां पर आप जानेगें। …… 

  • एलोवेरा क्या है। : What is Aloe vera ? /Aloe vera ke fayde.
  • धृतकुमारी के कुछ प्रमुख फायदे । : Important Benefits of Aloe vera./Aloe vera ke fayde.
  • पुराने कब्ज , बच्चों के कब्ज और बवासीर में लाभकारी है । : Aloe vera Control Old Constipation , Children’s Constipation.
  • जख्मों के भरने एवं जलने में लाभकारी। : Aloe vera Beneficial in filling wounds , burning and irritation.
  • वजन नियंत्रण में फायदेमंद। : Aloe vera Beneficial in keeps weight in control.
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी। : Aloe vera Enhances the Immune System.
  • चेहरे को निखारता है और झुर्रियों को खत्म करता है। : Aloe vera refreshes the face and eliminate wrinkles.
  • भूख को बढ़ाता है । : Aloe vera increase Appetite. 
  • एलोवेरा बालों के लिए है फायदेमंद। : Aloe vera Beneficial for Hair . 
  • धृतकुमारी के नुकसान । : Loss  or side-effects of Aloe vera .

धृतकुमारी के कुछ मुख्या फायदे । : Aloe vera Benefits : Aloe vera ke fayde


पुराने कब्ज , बच्चों के कब्ज और बवासीर में लाभकारी है । : Old Constipation,Children’s Constipation Aloe vera ke fayde.


अगर किसी भी व्यक्ति में कब्ज की समस्या पुराने समय से है तो एलोवेरा का जूस उस कब्ज में बहुत ही लाभकारी साबित होता है। घृतकुमारी के दो चम्मच गूदे को पानी में मिलाकर रोज शाम को जूस की तरह पीने से पुराने कब्ज में लाभ मिलता है।

और पढ़ें  कब्ज के आसान घरेलु उपाय उपाय 

बच्चों के कब्ज में धृतकुमारी का रस बहुत ही फायदेमंद साबित होता है। बहुत सारे बच्चों का स्टूल कड़ा हो जाता है जिसके कारण बच्चों में कब्ज की समस्या उत्पन्न हो जाती है। अगर बच्चों को एलोवेरा के आधे चम्मच गुर्दे का रस बना कर दिया जाए तो बच्चों के कब्ज में बहुत लाभ मिलती है।( बच्चों को एलोवेरा के रस की ज्यादा मात्रा ना दें उनमें डायरिया का खतरा होता है। ) या एलोवेरा के रस में हिंग की थोड़ी सी मात्रा गर्म करके बच्चों के नाभि के आसपास लगाने से कब्ज में आराम मिलता है।

और पढ़ें  कब्ज के प्रमुख लझण कारण 

बाबासीर में भी एलोवेरा का बहुत ही महत्वपूर्ण रोल है। चाहे वह सामान्य बाबासीर हो या फिर खूनी बवासीर दोनों ही परिस्थितियों में एलोवेरा का रस लाभकारी साबित होता है। एलोवेरा के दो चम्मच गुर्दे का रस आप प्रतिदिन सेवन करें इसके सेवन से सामान्य बवासीर और खूनी बवासीर में लाभ मिलता है। अगर आपको खूनी बवासीर है और खून बहुत ज्यादा मात्रा में निकल रही हो तो एलोवेरा के गूदे को उस जगह पर रखने से खून का बहाव कम होता है। और आपको आराम मिलेगी।

जख्मों के भरने एवं जलने में लाभकारी। : filling wounds, burning and irritation Aloe vera ke fayde.

जख्मों को भरने तथा जलने में भी धृत कुमारी का रस बहुत ही लाभकारी साबित होता है। एलोवेरा के गूदे में एंटीबैक्टीरियल और ऐंटिफंगल के गुण मौजूद होते हैं। जिसके कारण इसके गुर्दे का उपयोग जख्मों पर करने से जख्मों में सुधार होती है और उसे जल्दी भरने में मदद मिलती है। चोट के कारण उत्पन्न हुए जख्मों में भी घृतकुमारी का रस लगाने से आराम मिलता है।

किसी भी तरह से जलने में भी घृतकुमारी का गुदे का इस्तेमाल लाभकारी साबित होता है। अगर जलने के तुरंत बाद उस स्थान पर एलोवेरा के गूदे का इस्तेमाल उस स्थान पर किया जाए तो छाले नहीं पड़ते और जलन में भी लाभ मिलती है।

वजन नियंत्रण में फायदेमंद। : weight in control Aloe vera ke fayde.

आपके वजन को कम करने तथा उसे नियंत्रण में रखने के लिए भी एलोवेरा का रस बहुत ही फायदेमंद साबित होता है। घृतकुमारी के गूदे का जूस बनाकर उसके नियमित रूप से इस्तेमाल करने से आपके भजन में फर्क पड़ेगा साथ ही साथ अगर आप थकावट महसूस करते हैं तो उस थकावट को भी एलोवेरा के रस दूर करती है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी। : Enhances the Immune System.

एलोवेरा के रस में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा पाई जाती है। इसके नियमित रूप से इस्तेमाल करने से आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है । जिसके कारण शरीर की अधिकांश बीमारियां ठीक होती हैं और बीमारियों से लड़ने की शक्ति बढ़ जाती है। रोग प्रतिरोधक क्षमता हमारे शरीर का एक रक्षा कवच है अगर रोग प्रतिरोधक क्षमता हमारे शरीर की कम हो जाए तो बहुत सारी बीमारियां हमारे शरीर में उत्पन्न होंगे। और उनके ठीक होने में बहुत ज्यादा समय लगेगा। रोग प्रतिरोधक क्षमता ही हमें सारी बीमारियों से बचाता है। और बाहर से आने वाले सभी कीटाणुओं से लड़ता है।

चेहरे को निखारता है और झुर्रियों को खत्म करता है। : Aloe vera refreshes the face and eliminate wrinkles : Aloe vera ke fayde skin ke liye :

मनुष्यों में चेहरे की समस्या बहुत ही बड़ी समस्या मानी जाती है। चेहरे पर कील-मुंहासे निकलने के कारण किशोरावस्था के लोग बहुत ही ज्यादा परेशान रहते हैं। एलोवेरा के रस का इस्तेमाल निरंतर रूप से करने पर चेहरे स्वस्थ रहते हैं चेहरे पर कील मुहासों का खतरा भी बहुत कम हो जाता है। मुख्यता चेहरे का संबंध सीधे तौर पर हमारे पेट से होता है। अगर आपका पाचन तंत्र और पेट सही रहेगा तो आपके चेहरे पर निखार बनी रहेगी।

चेहरे पर झुर्रियों का कारण उम्र का ढलना होता है। जैसे जैसे उम्र बढ़ता है चेहरे पर झुर्रियां दिखनी शुरू हो जाती हैं। एलोवेरा के गूदे को अपने चेहरे पर मालिश करें और उसके रस का सेवन करने से झुर्रियों में कमी आती है।

भूख को बढ़ाता है । : Aloe vera increase Appetite.

कभी-कभी कुछ लोगों में भूख ना लगने की समस्या देखी गई है। भूख ना लगने की समस्या के कारण शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। जिसके कारण हमारा शरीर कमजोर पड़ना शुरू हो जाता है अगर आप एलोवेरा के रस का इस्तेमाल सुबह खाली पेट करते हैं तो आपको भूख ना लगने की समस्या से छुटकारा मिल जाएगी।

एलोवेरा बालों के लिए है फायदेमंद। : Aloe vera Beneficial for Hair : Aloe vera ke Fayde Balo ke liye.

धृतकुमारी का रस आपके बालों के लिए मॉस्चराइजर का काम करता है। अगर आप एलोवेरा का इस्तेमाल नियमित रूप से करते हैं तो यह आपके बालों को  पोषण प्रदान करता है। और आपके बालों के विकास को दुगना करता है। एलोवेरा का इस्तेमाल आपके बालों को घना बनाता है, बालों को झड़ने से रोकता है , तथा रूसी को जड़ से खत्म करता है। यह आपके बालों के पी एच लेवल को संतुलन में रखता है।

एलोवेरा के पत्तियों में से उसके गूदे को निकालें जितनी आपके बालों की जरूरत हो। उसके बाद उसमें आधे नींबू का रस निचोड़े और उसका अच्छी तरह से मिलाकर पेस्ट बना लें। और इस पेस्ट को अपने बालों में इस्तेमाल करें। लगभग 10 से 15 मिनट तक उसे अपने बालों में लगा हुआ छोड़ दें। उसके बाद आप अपने बालों को धो लें। इस प्रक्रिया को आप महीने में 3 बार दोहराएं। आपके बालों का निखार बढ़ जाएगा।

धृतकुमारी के नुकसान । : Loss  or Aloe vera side-effects.


  • एलोवेरा के रसों का इस्तेमाल सुरक्षित माना जाता है लेकिन अप्राकृतिक ढंग से निकाले गए एलोवेरा का जूस नुकसान भी पहुंचा सकता है। तथा वह आपके स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव भी डाल सकता है।
  • एलोवेरा के गुदो में अंतर Anthraquenon नमक रासायनिक पदार्थ  पाया जाता है। जिसका इस्तेमाल ज्यादा मात्रा में करने से शरीर में ऐंठन , शरीर में पानी की कमी और दस्त की शिकायत हो सकती है। अगर आप किसी भी तरह के दवाइयों का इस्तेमाल कर रहे हैं तो एलोवेरा जूस लेने से पहले आप अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।
  • गर्भवती महिलाओं को भी एलोवेरा जूस लेने से बचना चाहिए। जो महिलाएं स्तनपान करवाती हैं उन्हें भी एलोवेरा जूस लेने से बचना चाहिए क्योंकि इसमें Anthraquinon नामक रासायनिक पदार्थ बच्चों में दस्त पैदा कर सकता है।
  • एलोवेरा का इस्तेमाल नियमित रूप से करें लेकिन ज्यादा मात्रा में ना करें क्योंकि ज्यादा मात्रा में एलोवेरा रस का इस्तेमाल आपके पूरे शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है।

निर्देश

किसी भी दवाइयों का इस्तेमाल चाहे वह अंग्रेजी दवाइयां हो यह हेमोपैथिक दवाइयां हों यह आयुर्वेदिक दवाइयां हों या किसी भी तरह की जड़ी-बूटी हो उसका इस्तेमाल खुराक में करें ज्यादा मात्रा में यह आपके पूरे शरीर के लिए हानिकारक होगा।

Aloe vera ke fayde

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *