कब्ज के लझण,कारण,क्या करें क्या नहीं-Constipation in Hindi

कब्ज / Constipation in Hindi

लझण | कारण | क्या करें क्या नहीं

कब्ज किसे कहते हैं ? : What is Constipation in Hindi?


हम लोग जो खाते हैं उसका पोषक तत्व खून के द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है। और बचा हुआ अंश हमारे आंतों के जरिए मलद्वार के रास्ते बाहर निकाल दिया जाता है। यह प्रक्रिया नित्य प्रतिदिन निरंतर होते रहता है। जब ऐसा ना होकर भोजन का बचा हुआ अंश जिसे मल भी कहा जाता है वह आंतों में रुका रह जाए या रोजाना मलद्वार के जरिए बाहर ना निकल पाए अथवा बहुत चेष्टा करने पर थोड़ा निकल पाए उसे कब्ज (Constipation in Hindi) या कोस्बंठधता कहते हैं।

कब्ज होने का क्या कारण है ? : Causes of Constipation in Hindi.


कब्ज को अनेकों रोगों का कारण माना जाता है। यह बीमारी अनेक कारणों से उत्पन्न हो सकती है।

  • रात्रि में अधिक समय तक जागना 
  • दुख या शोक में रहना
  • आंतों या यकृत का रोग होना
  •  हानिकारक वस्तुओं का सेवन करना 
  • किसी प्रकार का शारीरिक परिश्रम ना करना 
  • चाय कॉफी या नशीली पदार्थों का सेवन करना 
  • हर समय भोजन करना 
  • पानी कम पीना 
  • गरम बा मसालेदार चीजों का सेवन अधिक करना 
  • धूम्रपान या मदिरा लगातार सेवन करना 
  • उपवास करने अथवा किसी एक ही तरह की चीज रोजाना खाने और केवल गाय का दूध पीकर रहने से कब्ज होता है 
  • मल त्याग की अनुभूति होते समय में मल त्याग ना करना 
  • पाचन तंत्र का कमजोर होना 
  • एनीमिया की बीमारी होना 

टाइफाइड ज्वर, रक्त ज्वर, खसरा, चेचक इत्यादि किसी भी नई बीमारी मे कब्ज की समस्या देखी गई है इस तरह की बीमारियों में कब्ज होने पर जुलाब की गोलियों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

और पढ़ें    कब्ज को ख़त्म करने के 20 आसान घरेलु उपाय

कब्ज में कौन-कौन से लक्षण दिखते हैं ? : Constipation Symptom.


कब्ज हो जाने पर मल सरलता से नहीं निकलता है तथा जमा हुआ मल आंतों में सड़ा करता है। उस सड़े हुए मल का अंश रक्त तथा मांस में मिलकर उन्हें हानि पहुंचाता है तथा अनेक रोगों का कारण बनता है।

कब्ज होने पर मुख्यत ये लझण दीखते हैं। 

  • सिर दर्द 
  • अरुचि 
  • भूख ना लगना 
  • नींद ना आना 
  • पेट तना हुआ होना 
  • चिड़चिड़ापन 
  • रत हीनता 
  • बुखार होना 
  • पाचन शक्ति का खत्म होना

मल अगर अधिक दिनों तक आंतों में जमा रहे तो ये जटिलताएं दिखतीं हैं। 

  • डाइलेटेशन (आंतों के भीतरी आयतन बढ़ जाना) 
  • आंतों में घाव उत्पन्न होना 
  • आंतों में छेद हो जाना 
  • बाबासीर होना 

कब्ज होने पर लोग तरह-तरह के उपाय करते हैं जुलाब की गोलियां लेते हैं या तो फिर मेडिसिन लेते हैं उससे कुछ दिनों तक कब्ज में राहत मिलती है तत्पश्चात जुलाब की गोलियां और मेडिसिन का असर खत्म हो जाता है और कब्ज फिर से उत्पन्न हो जाता है बहुत सारे लोग जुलाब की गोलियों का और मेडिसिन की मात्रा को बढ़ा देते हैं जिससे उनकी समस्या खत्म होने के बजाय और बढ़ जाती है

क्या करना चाहिए : What should be done in the Constipation in Hindi.


आहार की सुव्यवस्था।:

आहार की सुव्यवस्था कब्ज को खत्म कर सकती है। बहुत सारे लोग ज्यादा मात्रा में और दिन में 1 बार भोजन करते हैं इससे कब्ज की समस्या बढ़ सकती है। भोजन की मात्रा हल्का रखें और दिन में 3 से 4 बार भोजन करें।

व्यायाम :

अगर आप  व्यायाम निरंतर रूप से करते हैं तो कब्ज की समस्या खत्म हो सकती है। व्यायाम से पूरे शरीर को लाभ पहुंचता है अगर आपके आंतों में किसी भी तरह की समस्या है तो वह व्यायाम से दूर हो सकती है।

औषधि का सेवन :

औषधियों का सेवन कब्ज में बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है क्योंकि औषधियों से कब्ज को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है। बशर्ते औषधियों का उपयोग नियमित रूप से किया जाए।

घरेलू उपाय :

घरेलू उपाय से भी कब्ज को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है। बशर्ते आपको मालूम होना चाहिए कौन सी घरेलू उपाय आपके कब्ज के लिए लाभकारी होगा।

क्या नहीं करना चाहिए : What should not be done in the Constipation in Hindi.


  • असमय भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए ऐसे मेंअसमय भोजन ग्रहण करने से कब्ज की समस्या बढ़ सकती है।
  • पानी का सेवन ज्यादा से ज्यादा करनी चाहिए अगर आप पानी कम पिएंगे तो कब्ज की समस्या और बढ़ सकती है।
  • सुबह उठकर पानी जरूर पीना चाहिए। सुबह 2 से 3 गिलास पानी पीने से कब्ज की समस्या  से राहत मिलती है।
  • मसालेदार तथा तली हुई भोजन का उपयोग नहीं करना चाहिए इससे कब्ज की समस्या में बढ़ोतरी होती है।
  • अगर कब्ज की समस्या है तो धूम्रपान तथा शराब का सेवन नहीं करना चाहिए इससे कब्ज की समस्या में  विधि हो सकती है।
  • मल आते समय ज्यादा जोर नहीं लगाना चाहिए इससे आपको बवासीर की समस्या हो सकती है।
  • दवाओं का सेवन डॉक्टरों के अनुसार ही करनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *