हिमालय सिस्टोन सिरप-Cystone syrup in Hindi

निर्माता कंपनी – हिमालय ड्रग कंपनी

सामग्रियाँ | उपयोग | खुराक | दुस्प्रवाह | कीमत | सवाल-जवाब

हिमालया सिस्टोन (Cystone syrup in Hindi) एक से अधिक जड़ी बूटियों तथा खनीजों का मिश्रण है। हिमालया सिस्टोन सिरप आपके गुर्दे तथा मूत्र मार्ग को स्वास्थ्य रखता है, संक्रमण मुक्त रखने में मदद करता है। तथा आपके गुर्दे में मौजूद पथरी को भी निकालने में मदद करता है।

गुर्दा हमारे पूरे मूत्रमार्ग को प्रभावित करता है। अगर गुर्दे में किसी भी प्रकार का संक्रमण या पथरी मौजूद हो तो मूत्र आसानी पूर्वक बाहर नहीं निकल पाता है, तथा मूत्र अस्थाई रूप से गुर्दे में एकत्रित होने लगता है। हिमालय सिस्टोन सिरप का उपयोग इन सभी समस्याओं को कम कर सकती है, और खत्म करने में मदद करती है।

सिस्टोन में पाई जाने वाली सामग्रियां : Ingredient in Cystone syrup in Hindi

हिमालय सिस्टोन एक आयुर्वेदिक दवा है इसका निर्माण 1 से अधिक जड़ी-बूटियों तथा खनिजों को मिलाकर किया गया है।

सामग्रियाँ
 मात्रा / 5 ml
गोक्षुरा (Gokshura) 91 mg
पुनर्नवा   (Punarnava) 67 mg
पाषाणवेदा (Pashanabeda)53 mg
मुस्टा (Musta)42 mg
शतावरी (Shatavari)21 mg
कुलथा (Kulattha)21 mg
उसीरा (Usheera)21 mg
त्रिकटु (Triktu)20 mg
काचीरा (Kachira)14 mg
चूर्ण
सैंधवा (Saindhava)50 mg
सौवर्चला  (Sauvarchala)42.5 mg
 युवकश्रा  (Yuvakshara) 5 mg
 नवासरा  (Navasara) 2.5 mg

सिस्टोन सिरप का उपयोग : Uses of Cystone syrup in Hindi

हिमालया सिस्टोन सिरप एक से अधिक बीमारियों को कम करने तथा ठीक करने में सक्षम है। हिमालय सिस्टोन सिरप हमारे गुर्दे में बनी हुई पथरी को छोटा कर उसे बाहर निकालने में मदद करता है। हिमालय सिस्टोन सिरप का उपयोग हमारे मूत्रमार्ग के संक्रमण तथा उसमें उत्पन्न जलन को भी दूर करता है। यह मूत्र के pH को सामान्य रखता है तथा पेशाब में उत्पन्न किसी भी तरह के जलन से दूर करता है। तथा मूत्र मार्ग में हुए सूजन को खत्म करता है।

  • गुर्दे का संक्रमण (Renal infection)
  • गुर्दे की पथरी (Kidney stone)
  • मूत्र नली का संक्रमण (Urinary tract infection)
  • मूत्र नली का जलन (Urinary tract irritation)
  • आंतों का संक्रमण (Intestinal infection)
  • प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार (Improve immune system)

और पढ़ें  हिमालया कॉन्फिडो सिरप पूरी जानकारी

हिमालया सिस्टोन सिरप की खुराक : Dosage of cystone syrup in Hindi

सभी दवाइयों की खुराक बीमारी की जटिलता और व्यक्ति के उम्र तथा वजन पर निर्भर करता है अगर बीमारी की जटिलता ज्यादा होगी तो दवाइयों की खुराक को भी बढ़ाया जा सकता है। अगर किसी व्यक्ति का वजन ज्यादा होता है उस संदर्भ में भी दवाइयों की खुराक को बढ़ाया जा सकता है। कभी-कभी बीमारियों की जटिलता और व्यक्ति के वजन को देखते हुए दवाइयों की खुराक को दोगुना करना पड़ सकता है। इसके लिए जरूरी है कि दवाइयों के संपूर्ण खुराक को जानने के लिए आप अपने नजदीकी डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

शुरुआती दौर में 10 ml 2 बारसुबह-शाम 
उसके बाद 5 ml दो बार सुबह-शाम

किसी भी आयुर्वेदिक दवा कि काम करने की क्षमता धीरे होती है लेकिन वह काम जरूर करता है। इसलिए जब भी आप आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करें यह सोचकर करें कि उसका उपयोग कुछ लंबे समय के लिए करना होगा। बहुत सारे लोग आयुर्वेदिक दवाओ का इस्तमा तो करते हैं लेकिन कुछ दिनों के बाद वह सोचने लगते हैं कि अभी तक कुछ फायदा क्यों नहीं हुआ है और कुछ दिन इस्तमाल करने के बाद वह उन दवाओं को खाना बंद कर देते हैं।  वह सही नहीं होता आप जब भी आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करें पूरी खुराक के साथ करें ताकि उन आयुर्वेदिक दवाओं से आपकी बीमारियां पूरी तरह से खत्म हो सके।

सिस्टोन सिरप का दुष्प्रभाव : Side effects of cystone syrup in hindi

हिमालय सिस्टोन सिरप एक आयुर्वेदिक दवा है। इसलिए इसका दुष्प्रभाव बहुत कम लोगों में देखा गया है। अगर आप हिमालया सिस्टोन सिरप का इस्तेमाल करते हैं और आप में किसी भी तरह का दुष्प्रभाव दिखता है तो आप तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर से संपर्क संपर्क करें।

हिमालय सिस्टोन सिरप का दुष्प्रभाव बहुत कम होने के बावजूद जो लोग जिगर की बीमारी और दिल की बीमारी से ग्रसित हैं। वे लोग बिना किसी डॉक्टर सलाह के इस सिरप का इस्तेमाल ना करें।

सिस्टोन सिरप की कीमत : Price of cystone syrup in Hindi

कीमत125/-  for 200 ml

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

Q – हिमालय सिस्टोन सिरप का इस्तेमाल खाली पेट करना चाहिए या कुछ खाने के बाद?

हिमालय सिस्टोन सिरप का इस्तेमाल मुख्य था कुछ खाने के बाद करनी चाहिए लेकिन किसी परिस्थिति में इसका इस्तेमाल करने से पहले आप अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

Q – हिमालय सिस्टोन सिरप का इस्तेमाल मुख्यतः कितने दिनों तक करना पड़गा?

हिमालय सिस्टोन सिरप मुख्यतः 1 से 2 हफ्ते में अपना असर दिखाना शुरू कर देता है। लेकिन सभी बीमारियों की गंभीरता ए अलग होती है जिसके कारण इस्तेमाल करने की अवधि बढ सकती है।

Q – क्या हिमालया सिस्टोन सिरप के साथ किसी और दवा का इस्तेमाल किया जा सकता है।

हिमालय सिस्टोन सिरप का इस्तेमाल करने से पहले अपने पुराने दवाओं की परिस्थिति के बारे में अपने डॉक्टर्स को बताएं तथा डॉक्टर के परामर्श के बाद ही इस दवा के साथ किसी और दवा का इस्तेमाल करें।

Q – इस दवा का इस्तेमाल गर्भवती महिलाएं तथा स्तनपान अभी के दौरान किया जा सकता है?

गर्भवती महिलाओं पर किसी भी तरह का दवा का इस्तेमाल करने से पहले आप अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *