अस्थमा का अचूक घरेलू उपचार-Home remedies for asthma in Hindi | Only HEALTHY Advice-Health Expert

Home remedies for asthma in Hindi

जब कोई व्यक्ति अस्थमा से ग्रसित होता है। तो उस व्यक्ति का स्वसन तंत्र प्रभावित होता है। जिसके कारण स्वसन नलिकाओं में सूजन तथा कफ जमना शुरू हो जाता है। सूजन और कफ के कारण स्वसन नलिकाए पूरी तरह बंद हो सकती हैं। आमतौर पर अस्थमा का उपचार डॉक्टरों के द्वारा दी गई परामर्श एक बेहतर उपाय माना जाता है। लेकिन अस्थमा एक ऐसी बीमारी है जिससे लोग कभी भी परेशान हो सकते हैं। अस्थमा में आने वाले दौरे अचानक आते हैं। उस दौरान लोगों का कष्ट अत्याधिक बढ़ जाता है। उसके लिए जरूरी है कि आप अस्थमा को नियंत्रित करने के लिए कुछ आसान और कारगर घरेलू उपचार के बारे में जाने। यहां पर कुछ ऐसे घरेलू उपचार के बारे में बताया गया है। जिसे आप अपना कर अस्थमा तथा अस्थमा में आने वाले दौरे को नियंत्रित कर सकते हैं।

और पढ़ें  खाँसी की होमिओपैथिक दवाइयाँ

अस्थमा क्या है? : What is Asthma?


अस्थमा एक स्वसन तंत्र की बीमारी है। अस्थमा में हमारे फेफड़े के साथ-साथ श्वसन नलीकाएं प्रभावित होती है। जिसके कारण पूरे स्वसन तंत्र पर असर पड़ता है। जब हमारे फेफड़ों और श्वसन नालियों में श्लेष्मा (कफ) अधिक मात्रा में जमा हो जाता है। और वह आसानी पूर्वक बाहर नहीं निकल पाता है। अत्याधिक खांसी होने के पश्चात भी कफ का बाहर निकलना बहुत मुश्किल होता है। जिसके कारण मनुष्य को सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। उस परिस्थिति को दमा की बीमारी कहते हैं। इस बीमारी के कारण मनुष्य को श्वसन में बेहद कष्ट होता है, तथा गले से आवाज निकलनी शुरू हो जाती है।

दमा के प्रमुख लक्षण : Symptoms of Asthma in Hindi.


दमा में कई सामान्य लक्षण भी दिखते हैं। जो अन्य बीमारियों में भी प्रकट होते हैं। लेकिन अस्थमा में कई ऐसे लक्षण भी प्रकट होते हैं, जिसे जानकर आप स्वयं यह पता लगा सकते हैं कि आपको अस्थमा की बीमारी होने वाली है, या हो चुकी है, या दमा गंभीर अवस्था में पहुंच चुकी है। तो आइए जानते हैं दमा में कौन-कौन से प्रमुख लक्षण दिखते हैं।

  • सांस लेने में कठिनाई होगा
  • छाती में लगातार दबाव महसूस होना
  • फेफड़े एवं श्वसन नली में अधिक कफ जम जाना
  • छाती में जलन एवं दर्द का अनुभूति होना
  • कभी कभी झाग के साथ बलगम का निकलना
  • लगातार उग्र खांसी होना
  • साँस तेजी से लेना
  • बेचैनी होना
  • कफ का आसानी से बाहर ना निकल पाना
  • सांस लेते समय साॅय-साॅय का आवाज होना
  • शुष्क ठंडी हवा से तथा तंबाकू के धुए से दमा की स्थिति और खराब होना

गंभीर लक्षण

  • अचानक दौरे आना।
  • मध्य रात्रि में दमे की स्थिति और गंभीर हो जाती है।
  • बेचैनी तथा मृत्यु का भय होना।
  • कर्कस सूखी आवाज के साथ भयानक खांसी होना।
  • फेफड़े के लकवे की आशंका।
  • चेहरा नीला पड़ जाना
  • नाखूनों का रंग फीका पड़ जाना
  • आंखें ऊपर की ओर चढ़ जाना।
  • थोड़ा चलने फिरने से भी सांस लेने में कठिनाई होना
  • हल्के से परिश्रम करने पर भी दम फूल जाना।
  •  सांस लेने की कोशिश में मूर्छित हो जाना।
  • फेफड़ों में सूजन हो जाना।

और पढ़ें पुरानी खाँसी ठीक करने की अचूक घरेलु उपचार 

अस्थमा की 10 आसान और अचूक घरेलु उपचार


1 – कपूर से दमा का इलाज : Home remedies for Asthma in Hindi


अगर दमा के कारण आपकी सांस फूल रही है। सांस लेने में तकलीफ हो रही है। तो 2 और 3 कपूर के गोलियों को उबलते पानी में डालकर भाप लेने से श्वसन संबंधित बीमारियों में विशेष लाभ मिलता है। तथा दमा के कारण सांस लेने की समस्या में सुधार होती है।

2 – पीपल, काली मिर्च, सोंठ और चीनी से दमे का इलाज : Home remedies for Asthma in Hindi


यदि दमे के कारण आपकी सांस फूलती हो या आपका दमा शुरुआती दौर में हो। तो यह घरेलू उपचार आपके दमे को खत्म कर सकती है। जिन रोगियों को दमें की शुरुआती लक्षण दिखते हैं, उन्हें पीपल, काली मिर्च, सोंठ और चीनी को बराबर मात्रा में पीसकर चूर्ण बना लेनी चाहिए, तथा उस चूर्ण में शहद मिलाकर दिन में तीन बार खाना चाहिए। इस उपाय से दमो में अति शीघ्र लाभ मिलता है।

3 – फिटकरी और मिश्री से दमे का इलाज : Home remedies for Asthma in Hindi


अगर आप पुराने समय से दमा से परेशान हैं। और आपको दमे के कारण दौरे पड़ते रहते हैं। तो आपके लिए यह घरेलू उपचार अत्यंत लाभदायक होगा। फूली हुई फिटकरी और मिश्री की बराबर मात्रा लेकर उसे पीसकर चूर्ण बना लें। बनाई गई चूर्ण से दिन में एक-दो बार लगभग 1 ग्राम चूर्ण का इस्तेमाल ताजे पानी के साथ करें। यह पुराने दमा के रोगियों के लिए लाभदायक साबित होता है।

4 – लहसुन से अस्थमा का इलाज : Home remedies for Asthma in Hindi


अगर आप में अस्थमा शुरुआती दौर में है। और आप को सांस लेने में तकलीफ होती है। तो लहसुन का रस आपके अस्थमा को खत्म कर सकता है। लहसुन को अच्छी तरह से पीसकर उसके रसों को निकाल लें। तथा 10 से 15 बूंदे शहद में मिलाकर प्रतिदिन दो बार इस्तेमाल करें। लहसुन के तेल को छाती और पीठ पर मालिश करें। इसके उपाय से सांस लेने की समस्या में सुधार होगी तथा दमा खत्म होगा।

5 – तुलसी और काली मिर्च से दमे का उपचार : Home remedies for Asthma in Hindi


दमा होने पर तुलसी का सेवन अत्यंत फायदेमंद माना जाता है। अगर आप दमे से ग्रसित हैं। और आप में दमे के शुरुआती लक्षण दिखने लगे हैं। तो आप तुलसी के पत्ते और काली मिर्च सामान्य मात्रा में पीसकर चूर्ण बना लें। आधे चम्मच चूर्ण को आधे गिलास पानी में डालकर प्रतिदिन 2 बार इस्तेमाल करें। इसके इस्तेमाल से दमे में दिखने वाले शुरुआती लक्षणो में सुधार होती है।

6 – फिटकिरी और हल्दी से दमे का उपचार : Home remedies for Asthma in Hindi


अगर आप पुराने समय से परेशान हैं, और आपको दमे के कारण दौरे आते रहते हैं। या अत्यधिक खांसी के कारण कभी कभी मुंह से खून निकलने की समस्या दिखती है। तो आप फिटकिरी और हल्दी को सामान्य मात्रा में लेकर उसे पीसकर उसका चूर्ण बना ले। तथा तीन चुटकी चूर्ण का इस्तेमाल प्रतिदिन आधे गिलास पानी के साथ करें। इसका इस्तेमाल आपको सभी समस्याओं से छुटकारा दिला देगा।

7 – नींबू, शहद और अदरक से दमे का उपचार : Home remedies for Asthma in Hindi


अगर किसी व्यक्ति को दमे के कारण दौरे पड़ते हैं। तो उनके लिए यह उपचार अत्यंत लाभदायक होगा। दमे के रोगियों को प्रतिदिन प्रातः एक नींबू का रस 2 चम्मच शहद और एक चम्मच अदरक के रस को मिलाकर एक कप गर्म पानी में प्रतिदिन पिलाते रहने से दमे के दौरे में लाभ मिलता है। तथा दौरे आने की समस्या में कमी होती है।  दमा का दौरा पड़ने पर गर्म पानी में एक नींबू निचोड़ कर पिलाने से भी लाभ मिलता है। गर्म पानी तथा नींबू का रस सभी दमा के रोगियों के लिए लाभदायक साबित होता है।

8 – मेथी से दमे का उपचार : Home remedies for Asthma in Hindi


अगर आपको दमा के साथ-साथ खांसी के लक्षण दिखते हैं। तो आप चार चम्मच मेथी एक ग्लास पानी में उबालें पानी आधा गिलास बच जाए। तो उसे छानकर गर्म ही धीरे-धीरे पी जाएं। ऐसा प्रतिदिन 2 बार करें इस घरेलू उपचार से दमा तथा दमा में होने वाली खांसी में तुरंत लाभ मिलता है।

9 – गर्म पानी से दमे का उपचार: Home remedies for Asthma in Hindi


अगर आप दमा से ग्रसित हैं। तो रात को सोने से पहले एक गिलास गर्म पानी का इस्तेमाल पीने के रुप में जरूर करें। इससे आपको अच्छी नींद आएगी तथा सोते समय खांसी भी दूर रहेगी। दमा से आने वाले दौरे में भी गर्म पानी का इस्तेमाल लाभदायक होता है। दमा का दौरा पड़ने पर हाथ पैर गर्म पानी में डूबा कर 10 मिनट तक रखें इस उपाय से दमे का दौरे में जल्द सुधर होता है।

10 – केले के तने के रस से दमा का उपचार : Home remedies for asthma in Hindi


केले के तने का रस असाध्य रोग दमा को भी दूर करने में सहायक है। परंतु यह ध्यान रखें कि केले का रस जब दिया जाए तो खाने में केवल दूध और पका हुआ चावल ही देना चाहिए।

इसे भी जानें