सोरायसिस-लक्षण/कारण/इलाज/प्रकार Psoriasis in Hindi


Psoriasis in Hindi/सोरायसिस

लक्षण | कारण | प्रकार | क्या खाएं और क्या नहीं | इलाज

सोरायसिस क्या है? What is psoriasis in Hindi?


सोरायसिस एक त्वचा की बीमारी है जिन लोगों में सोरायसिस (Psoriasis in Hindi) की बीमारी उत्पन्न होती है उनकी त्वचा में कहीं-कहीं पर लाल चकत्ते एवं उन चकतों में उभार दिखना शुरू हो जाता है। इस बीमारी में शरीर के किसी भी अंग की त्वचा लाल होकर फूल जाती है तथा उसकी सूखी कड़ी एवं उजली छाल निकल जाती है। यह रोग मुख्यत बाहों, कोहनीओं, टांगों के पीछे तथा घुटनों के पास से शुरू होती है। यह एक स्व-प्रतिरक्षित विकार (Autoimmune Disorders) के द्वारा होने वाली बीमारी है इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है तथा वह विपरीत प्रक्रिया शुरू कर देती है।

मनुष्य में पुरानी कोशिकाओं का नष्ट होना तथा नई कोशिकाओं का निर्माण में लगभग 30 से 35 दिनों का समय लगता है लेकिन सोरायसिस से ग्रसित व्यक्तियों में त्वचा की कोशिकाओं का निर्माण बहुत ही जल्द होते रहता है जिसके कारण उनकी त्वचा पर लाल शुष्क एवं खुजली युक्त चकते उत्पन्न हो जाते हैं।

स्व-प्रतिरक्षित विकार क्या है? : What is Autoimmune Disorder?


स्व-प्रतिरक्षित विकार यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता मुख्यतः हमारे रक्षा प्रणाली को कहा गया है। रक्षा प्रणाली हमारे पूरे शरीर का एक कवच है जो बाहर से आने वाली किसी भी बीमारी को रोकता है। इसमें मुख्य ता दो घटक काम करते हैं श्वेत रक्त कोशिकाएं और  गुड बैक्टीरिया यह दोनों हमारे शरीर में किसी भी विकार को उत्पन्न होने से बचाती हैं लेकिन सोरायसिस में यह दोनों विपरीत प्रक्रिया शुरू कर देती हैं। यह दोनों हमारे ही शरीर को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देते हैं।

सोरायसिस के लक्षण : Psoriasis Symptom Hindi.


सोरायसिस एक स्व-प्रतिरक्षित विकार है यह बीमारी मुख्यत आपकी त्वचा को प्रभावित करती है। सोरायसिस एक धीरे धीरे फैलने वाली बीमारी है। अगर शुरुआती दौर में इसकी पहचान इसके लक्षणों के कारण हो जाती है तो इसका इलाज संभव है अगर इसकी जटिलता बढ़ जाती है तो इसका इलाज बहुत मुश्किल हो जाता है। इसके मुख्य लक्षणों में….

  • त्वचा में खुजली होना।

त्वचा में अत्यधिक खुजली होना, जो व्यक्ति सोरायसिस की बीमारी से ग्रसित होने वाले होते हैं उनके त्वचा में अत्यधिक खुजली उत्पन्न होता है जिसके कारण वह बेचैन हो उठते हैं। त्वचा में खुजली और भी बहुत सारी त्वचा संबंधित बीमारियों में होती है इसलिए इसे प्रमुख लक्षण नहीं माना जा सकता है लेकिन खुजली सोरायसिस बीमारी के शुरुआती लक्षणों में से एक है।

  • (Skin)त्वचा में जलन होना।

उनकी त्वचा में जलन शुरू हो जाता है।

  • त्वचा का लाल पड़ जाना तथा

खुजली और जलन के बाद उनकी त्वचा लाल पड़ने लगती है और इसकी शुरुआत कुछ जगहों से होती है।

  • त्वचा में सूजन आ जान।

त्वचा में सूजन आ जाना, यह सोरायसिस की बीमारी के प्रमुख लक्षणों में से एक है। त्वचा की वह जगह जहां पर जलन एवं त्वचा लाल पड़ जाती है उन जगहों में त्वचा में सूजन उत्पन्न होने लगती है और यह त्वचा पर चकत्ते के रूप में उभरने लगते हैं।

सोरायसिस होने के मुख्य कारण : Psoriasis Causes Hindi. 


वैसे तो सोरायसिस होने का क्या कारण है किसी भी अनुसंधान में इसका पता नहीं चल पाया है क्योंकि आपका प्रतिरक्षा प्रणाली आपको ही नुकसान कैसे पहुंचाता है। अभी तक किसी भी अनुसंधान में इसका पता नहीं लग पाया है लेकिन इसके जो कारण है वह निम्नलिखित हैं….

  • सोरायसिस होने का अनुवांशिकी एक कारण हो सकता है।

अनुवांशिकता के कारण भी सोरायसिस देखा गया है अगर आपके पूर्वजों ने किन्ही को भी सोरायसिस की बीमारी हो तो संभवत उनके आने वाली पीढ़ियों में भी सोरायसिस की बीमारी देखी जा सकती है।

  • यदि माता-पिता दोनों या दोनों में से एक इस बीमारी से ग्रसित है तो बच्चों में इस बीमारी की होने की संभावना ज्यादा होती है।

यदि माता-पिता दोनों या दोनों में से एक इस बीमारी से ग्रसित हैं तो उनके द्वारा आने वाले बच्चों में भी इस की संभावना बनी हुई होती है। बहुत बार ऐसा देखा गया है कि नवजात शिशुओं में उनके माता पिता की बीमारियां उनमें उत्पन्न हो जाती है।

  • स्व-प्रतिरक्षा प्रणाली इसका एक मुख्य कारण है।

 इसका एक मुख्य कारण स्व प्रतिरक्षा प्रणाली है जिसके कारण सोरायसिस की बीमारी उत्पन्न होती है।

  • बैक्टीरियल संक्रमण भी इसके एक कारण हो सकते हैं।

बैक्टीरियल संक्रमण के कारण भी सोरायसिस की बीमारी फैल सकती है इसलिए सोरायसिस की बीमारी में अपनी त्वचा की देखभाल बहुत ही अच्छी तरह से करनी चाहिए ताकि उनमें बैक्टीरियल संक्रमण का खतरा ना बने।

सोरायसिस मुख्यतः पांच प्रकार के होते हैं : Five types of Psoriasis in Hindi.


  •  वल्गार सोरायसिस (Vulgar Psoriasis)
  • गुट्टाट सोरायसिस (Guttate Psoriasis)
  • पस्टुलर सोरायसिस (Pustular Psoriasis)
  • इन्वर्स सोरायसिस (Inverse Psoriasis)
  • सॉरीएटिक सोरायसिस (Psoriatic Psoriasis)
psoriasis in Hindi
psoriasis in Hindi

सोरायसिस में क्या खाएं और क्या नहीं ? : What do & don’t you eat in Psoriasis in Hindi?


सोरायसिस एक बहुत बड़ी बीमारी है जो बहुत ही कम लोगों में देखी गई है और जिन लोगों में यह बीमारी देखी गई है वह लोग परेशान होते हैं कि क्या खाएं और क्या नहीं।

क्या खाएं……क्या नहीं खाएं…..
इस समस्या में आप हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें।जंक फूड का सेवन ना करें।
फल का सेवन करें। नमकीन भोजन का सेवन से बचें।
सभी तरह के दालों का सेवन करें।खट्टी चीजें एवं दही खाने से बचें।
सभी तरह के मछलियों का सेवन करें।उड़द की दाल का सेवन ना करें।
वैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें जिन में सूजन कम करने की प्रवृत्ति पाई जाती हो।शराब और धूम्रपान से दूर रहे।
वैसे खाद पदार्थों का सेवन बिल्कुल भी ना करें जो आपके बीमारी को और बढ़ा दे।

वैसे खाद पदार्थों का सेवन करें जो आपको स्वस्थ रखे

सोरायसिस में अपनी त्वचा का रखें ध्यान। : Take care of your skin in Psoriasis in Hindi.


Psoriasis एक त्वचा की बीमारी है इसलिए इस बीमारी में अपनी त्वचा का खास ख्याल रखें। सोरायसिस बीमारी के कारण आपकी त्वचा बहुत जल्द सूखने लगती है। सूखने के कारण त्वचा में दरार उत्पन्न हो जाता है जिसके कारण बैक्टीरियल संक्रमण का खतरा बन जाता है। आप अपनी त्वचा को सूखने ना दें, अपनी त्वचा पर रेगुलर अंतराल पर मॉस्चराइजर का इस्तेमाल करते रहे ताकि त्वचा पर नमी बरकरार रहे।

सोरायसिस का इलाज : Psoriasis Treatment Hindi.


सोरायसिस का अभी तक कोई भी इलाज संभव नहीं हो पाया है सोरायसिस के उपचार का मुख्य उद्देश त्वचा की जलन, खुजली एवं सूजन को कम करना होता है।

Psoriasis को मुखयत: इन चिकित्साओ के द्वारा रोका जा सकता है।

  • प्रकाश चिकित्सा
  • होम्योपैथिक चिकित्सा
  • आयुर्वेदिक चिकित्सा
  • घरेलू उपाय एवं
  • एलोपैथिक चिकित्सा

प्रकाश चिकित्सा द्वारा निम्न-स्तर के सोरायसिस को रोका जा सकता है इसमें सूर्य की किरने महत्वपूर्ण है। सूर्य में पाई जाने वाली पराबैगनी किरणों के कारण अति संवेदनशील सफेद रक्त कोशिकाएं खत्म होती हैं सफेद रक्त कोशिकाएं खत्म होने के कारण सोरायसिस में आराम मिलता है

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल।


Q – क्या सोरायसिस की बीमारी बच्चों में भी उत्पन्न हो सकती है?

हां, सोरायसिस की बीमारी सभी उम्र के लोगों में हो सकती है।

Q – क्या सोरायसिस की बीमारी में हमारे खून भी गंदे हो जाते हैं?

नहीं सोरायसिस की बीमारी में खून में संक्रमण नहीं होता है।

Q – क्या सोरायसिस बीमारी जैसी मिलती-जुलती कोई और भी बीमारी है जो स्व प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण उत्पन्न होती है?

हां, रूमेटाइड अर्थराइटिस स्व प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण उत्पन्न होने वाली बीमारियों में से एक है।

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow me….

Categories