टिटनस (Tetanus in Hindi) एक खतरनाक बीमारी मानी जाती है, जो बैक्टीरियल संक्रमण के कारण उत्पन्न होता है। टिटनेस जिस बैक्टीरिया से उत्पन्न होता है उस बैक्ट्रिया का नाम है क्लॉस्ट्रीडियम टिटानी (clostridium tetani)। टिटनेस बैक्टीरिया हमारे शरीर में प्रवेश करने के बाद एक खतरनाक जहर पैदा करता है जो मुख्य रूप से हमारे मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है।  जिससे हमारे मांसपेशियों में संकुचन पैदा होता है यह संकुचन मुख्य रूप से हमारे जबङे और गर्दन की मांसपेशियों में ज्यादा देखी जाती है। क्लॉस्ट्रीडियम टिटानी आपके सांस लेने में अवरोध पैदा करता है जिसके कारण आप सही तरीके से सांस नहीं ले पाते हैं। टेटनस को आमतौर पर “लॉकजाॅ” के नाम से भी जाना जाता है।

और पढ़ें  Ceftriaxone injectin | Azithromycin Dosage

टिटनेस (Tetanus in Hindi) का कोई भी उपचार मौजूद नहीं है। इसका उपचार मुख्य रूप से टिटनेस के विषाक्तता को कम करने तथा उसके लक्षणों पर निर्भर करता है। टिटनेस का टीका (vaccine) मौजूद है। अगर आप इसका टीका समय पर ले चुके हैं तो आप को डरने की आवश्यकता नहीं है।

विकसित एवं विकासशील देशों में टिटनेस के मामले दुर्लभ पाए गए हैं। लेकिन यह बीमारी उन लोगों के लिए खतरा बनी हुई है, जो अपना और अपने बच्चों का टीकाकरण समय पर नहीं करवाते है। जिसकी संख्या विकासशील देशों में ज्यादा देखी गई है।

और पढ़ें   पुरानी खाँसी की घरेलु उपचार

टेटनेस होने का मुख्य कारण : Causes of tetanus.

टिटनेस मुख्य रूप से मिट्टी, धूल, जानवरों के मल और जंग लगे हुए लोहे में पाए जाने वाले बैक्टीरिया क्लॉस्ट्रीडियम टेटानी से बने विष से उत्पन्न होता है। जब किसी व्यक्ति को गहरा जख्म या घव होता है तो उसके द्वारा बैक्टीरिया गहरे मांस में प्रवेश करता है तो वह और बैक्टीरिया में विकसित हो जाते हैं। जो एक शक्तिशाली विष टेटानोस्पासमिन उत्पादन करते हैं। यह विष उन नसों को प्रभावित करता है जो आपकी मांसपेशियों को नियंत्रित करती है। चेतना शिविर आपके मांसपेशियों में अकड़न और एठन पैदा करता है।

और पढ़ें   पेट गैस का घरेलु उपचार

टिटनेस के लक्षण : Tetanus Symptoms in Hindi

  • यह एक लाइलाज बीमारी मानी जाती है। इसलिए इस संक्रमण का टीकाकरण समय पर लगवाना काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।
  • टिटनेस के लक्षण आमतौर पर प्रारंभिक संक्रमण के 7 से 10 दिनों के बाद सामने आते हैं हालांकि इसका संक्रमण 4 दिनों से लेकर लगभग 3 सप्ताह तक भी हो सकता है और कुछ मामलों में इनके लक्षण प्रकट होने में महीनों लग सकते हैं।
  • टिटनेस का बैक्ट्रिया मुख्य रूप से केंद्रीय स्नायुतंत्र को प्रभावित करता है। जिसके कारण मांसपेशियों में इसके लक्षण पहले प्रकट होते हैं मांसपेशियों के लक्षण में ऐठन और कठोरता शामिल है। अकड़न आमतौर पर चबाने वाली मांसपेशियों से शुरू होती है जिसके कारण इसे लॉकजाॅ भी कहा जाता है।
  • मांसपेशियों में ऐंठन पूरे शरीर से होते हुए गले और गर्दन तक पहुंच जाती है, जिससे पानी पीने तथा निगलने में तकलीफ होने लगती है मरीजों को अक्सर गले गर्दन तथा चेहरे की मांसपेशियों में ऐंठन महसूस होती है।

और पढ़ें   खाँसी की होम्योपैथिक दवाइयाँ

सांस लेने में कठिनाई भी टेक्नॉस का एक प्रमुख लक्षण माना जा सकता है। ऐसा गर्दन और छाती की मांसपेशियों मैं कठोरता आ जाने से भी हो सकता है कुछ लोगों में पेट और पूरे शरीर की मांसपेशियां भी प्रभावित होती है।

और पढ़ें  Health OK टैबलेट | A to Z टैबलेट

कुछ मामलों में रीढ़ को पीछे की ओर झुक जाना भी देखा गया है ऐसा इसलिए देखा गया है क्योंकि पीठ की मांसपेशियां प्रभावित होती है। यह लक्षण मुख्य रूप से बच्चों में सामान्य देखा गया है। अधिकांश व्यक्तियों में निम्नलिखित लक्षण भी देखे जाते हैं।

  • बुखार (fever)
  • सर दर्द (Headache)
  • डायरिया (diarrhoea)
  • मल में खून आना (bloody stool)
  • गले में खराश (sore throat)
  • पसीना आना  (sweating)
  • धड़कन का तेज होना (heartbeat increase)

उपचार : Treatment of tetanus in Hindi

टिटनेस (Tetanus in Hindi) का कोई उपचार मौजूद नहीं है हालांकि टिटनेस का टीका मौजूद है जो टिटनस जैसे गंभीर संक्रमण को होने से रोकता है अगर आप टिटनस का टीकाकरण समय पर करवा चुके हैं तो आप को डरने की आवश्यकता नहीं है। इसका उपचार मुख्य रूप से टिटनेस के विषाक्तता को कम करने तथा उसके लक्षणों पर निर्भर करता है। अगर आपने अभी तक टिटनस का बूस्टर नहीं लिया है तो आप तुरंत अपनी नजदीकी अस्पताल से संपर्क करें।

  • अगर आपको जंग खाए हुए लोहे या मीठी के संपर्क से घव, चोट या छिल गया हो।
  • ऐसा जख्म या जला जिसके लिए सर्जरी की आवश्यकता हो और जिसमें 6 घंटे की देरी हो चुकी हो।
  • ऐसा जख्म या जला हुआ जिसमें ऊपरी उसको को हटाया जा चुका हो।
  • गंभीर फ्रैक्चर जिसमें हड्डियों तक संक्रमण पहुंच चुका हो।

ऊपर दिए गए सभी संक्रमण हो या गांव में मरीज को जितनी जल्दी हो सके टिटनस इम्यूनोग्लोबुलीन (TIG) लगवाना चाहिए। भले ही उसे टिटनस का टीका लगाया गया हो टिटनस इम्यूनोग्लोबुलीन में एंटीबॉडीज होते हैं जो क्लॉस्ट्रीडियम टेटनी को मार देता है और टेटनस के खिलाफ तत्काल अल्पकालीन सुरक्षा प्रदान करता है।

और पढ़ें  cefpodoxime Dogase | Cefixime Dogase


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay Home - Stay Safe

COVID-19