Typhoid diet in Hindi.

टाइफाइड में ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिसकी पाचन प्रक्रिया आसान हो तरल पदार्थों का सेवा तथा कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन जो आपको ताकत प्रदान करें।

टाइफाइड बुखार क्या है ? : What is Typhoid Fever in Hindi.

टाइफाइड बुखार मुखयतः साल्मोनेला टाइफी नामक बैक्टीरिया से उत्पन्न होता है। बरसात के मौसम में टाइफाइड के मामले बढ़ जाते हैं इसका कारण यह है कि बरसात में पेयजल के संक्रमित व प्रदूषित होने की आशंकाएं काफी बढ़ जाती है। यह बैक्ट्रिया प्रदूषित पेयजल व खाद्य पदार्थों के सेवन से मनुष्यो तक पहुंचाता है। सालमोनेला टायफी बैक्टीरिया मुंह के द्वारा आंतों तक पहुंचता है, आंतों में यह 1 से 3 सप्ताह तक अपनी संख्या को बढ़ाता है उसके बाद यह आंतों के दीवारों से होते हुए खून में चला जाता है। अगर इस संक्रमण का इलाज नहीं किया गया तो 25% मामलों में इस संक्रमण के कारण मौत हो जाती हैं। अगर समय रहते इसका उपचार किया गया तो 4% से 5% मामलों में इससे मौत देखी गई है।

Typhoid Fever  बैक्टीरियल संक्रमण के द्वारा उत्पन्न एक बीमारी है। Typhoid Fever को मोतीझरा बुखार, मियादी बुखार, आंत्र ज्वर भी कहा जाता है। मियादी बुखार किसी जानवर के द्वारा नहीं फैलता और ना ही किसी कीड़े मकोड़े और मच्छर के काटने से फैलता है। यह संक्रमण मुख्यतः एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। टाइफाइड बुखार मुख्यतः संक्रमित व्यक्ति के मल के द्वारा फैलाई जाने वाली गंदगी के कारण दूसरे व्यक्तियों में पहुंचता है। यह संक्रमण बच्चों के स्वास्थ्य के लिए ज्यादा गंभीर खतरा है।

टाइफाइड फीवर में क्या खाएं और क्या नहीं : Typhoid diet in Hindi.

क्या खाएं : Typhoid diet in Hindi.

मियादी बुखार में तरल पदार्थों का उपयोग ज्यादा करनी चाहिए। : Include liquid in Typhoid diet in Hindi.

मियादी बुखार में तरल पदार्थों का उपयोग ज्यादा से ज्यादा करें क्योंकि मियादी बुखार में आपके शरीर में पानी की कमी अत्यधिक हो जाती है इसलिए उस पानी की कमी को पूर्ति करने के लिए तरल पदार्थों का सेवन जरूरी है

पानी अधिक मात्रा में पीएं। : Drink more water in Typhoid diet in Hindi.

पानी का इस्तेमाल अधिक से अधिक मात्रा में करें ताकि आपके शरीर में पानी की कमी ना हो फलों का जूस एवं सुख का इस्तेमाल करें

फलों के जूस और सूप का इस्तेमाल करें : Fruit juice in Typhoid diet in Hindi.

बहुत बार ऐसा देखा गया है कि लोग तरल पदार्थों से दूर भागते हैं फल के जूस और सुप उन्हें अच्छे नहीं लगते हैं लेकिन मियादी बुखार में फलों के जूस और सूप का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए फल के जूस तथा सुप के इस्तेमाल से आपके शरीर में सोडियम की कमी नहीं होगी

प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ : Eat protein foods in Typhoid diet in Hindi.

अंडे में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन पाई जाती है जो आपके शरीर को ताकत पहुंचाती है तथा आप को कमजोर होने नहीं देती है पनीर में अत्यधिक मात्रा में प्रोटीन पाई जाती है टाइफाइड के कारण हमारा शरीर कमजोर पड़ना शुरू हो जाता है जिसका मुख्य कारण होता है हमारे शरीर में प्रोटीन की कमी होना अगर आप अंडे और प्रोटीन का सेवन बिना तले हुए करते हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद होगा क्योंकि यह आपके शरीर को ताकत प्रदान करने के लिए महत्वपूर्ण सामग्री है

मछली और चिकन में भी अत्यधिक मात्रा में प्रोटीन पाई जाती है लेकिन आप इसका इस्तेमाल अत्याधिक तलकर ना करें आप इसका इस्तेमाल हाल की मात्रा में तलकर करें

कम फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल करें जैसे मैदा सूजी दाल इत्यादि।

 जिस पदार्थ में फाइबर की संख्या कम पाई जाती हो उस भजन युक्त पदार्थों का सेवन अत्यधिक करें

क्या नहीं खाना चाहिए : what to not eat in Typhoid.

  • तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें
  • अधिक फाइबर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें
  • लहसुन, प्याज, शिमला मिर्च, गोभी इत्यादि खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल ना करें
  • बाहरी खाद्य पदार्थो सेवन ना करें। 
  • खुला हुआ भोजन और मक्खी लगा भोजन या खाद्य पदार्थो का सेवन ना करें। 
  • मसलेदार भोजन और खाद्य पदार्थो के सेवन से दूर रहें।
  • शौच से आने के बाद अपने हांथो को अछि तरह से धो कर ही भोजन ग्रहण करें।
  • गन्दी जगहों से पानी कभी न पिएं।

टाइफाइड बुखार का इलाज : Treatment of Typhoid Fever in Hindi. 

टाइफाइड का पता slide widal test या Typhidot test से लगता है। इन जांचों में रिजल्ट कभी-कभी फॉल्स पॉजिटिव या फॉल्स नेगेटिव भी हो सकता है। इसका मतलब है कि बीमारी ना होने पर भी यह टेस्ट कभी-कभी पॉजिटिव आ सकता है या बीमारी होने पर भी नेगेटिव हो सकता है इसलिए बीमारी का इलाज और टेस्ट डॉक्टर की सलाह से करवाएं।

मियादी बुखार के इलाज के लिए कई कारगर एंटीबायोटिक्स उपलब्ध है पर एंटीबायोटिक्स लेते समय इन बातों का ध्यान रखें।

  • डॉक्टर की सलाह के बगैर दवाएं न लें
  • डॉक्टर के परामर्श से ब्लड टेस्ट के बाद ही दवा शुरू करें।
  • एंटीबायोटिक को सही मात्रा और सही समय पर लें और दवा का पूरा कोर्स करें।
  • दवा को बीच में ना छोड़ें निर्धारित डोज में दबा ना लेना और उचित वक्त पर दवा ना लेना या बार-बार एंटीबायोटिक्स बदलने से यह रोग बैक्टीरिया रेसिस्टेंस हो सकता है ।
  • बुखार में पेरासिटामोल का इस्तेमाल करें
  • पानी और अन्य तरल पदार्थों का पर्याप्त मात्रा में सेवन करें।

मियादी बुखार से बचाव : Prevention from Typhoid Fever.

  • साबुन और स्वच्छ पानी या बहते पानी में हाथों को अच्छी तरह से धोने से टाइफाइड समेत अनेक संक्रामक रोगों से बचा जा सकता है।
  • खाने से पहले और शौच के बाद हाथ जरूर साफ करें।
  • इसी तरह बाज़ार में रखे खुले और कटे हुए खाद्य पदार्थों और फलों को ना खाएं।
  • कच्चे सब्जियों को ना खाए सब्जियों को पूरी तरह पका कर ही खाएं।
  • टाइफाइड की बीमारी से बचाव के लिए टीका उपलब्ध है टीका हर 2 साल बाद दोबारा लगवाना पड़ता है।
  • मल मूत्र त्यागने की जगह पर स्नान या उस जगह की पानी कभी ना पिए।
Covid-19 symptoms

COVID-19 Symptoms Day to Day in Hindi.

COVID-19 Symptoms आज पूरा देश coronavirus के महामारी से जंग लड़ रहा है। पूरे देश में coronavirus से संक्रमित लोगों ...
Read More
Tetanus in hindi

Tetanus in Hindi कारण/लझण/उपचार

टिटनस (Tetanus in Hindi) एक खतरनाक बीमारी मानी जाती है, जो बैक्टीरियल संक्रमण के कारण उत्पन्न होता है। टिटनेस जिस ...
Read More
Chamki fever से बिहार में 100 से ज्यादा बच्चों की जाने जा चुकी है, 2014 और 2017 में ये बीमारी बिहार में महामारी फैला चुकी है।

Chamki Fever(चमकी बुखार) लझण/कारण/वचाब/क्या करें/क्या नहीं

चमकी बुखार (Chamki Fever), एक्यूट इंसेफेलाइटिस, जापानी बुखार या दिमागी बुखार यह सभी एक ही बीमारी के नाम हैं। जो ...
Read More
polio in hindi

Polio in hindi लझण/जाँच/उपचार/रोक-थाम/क्या करें-क्या नहीं

Polio in hindi लझण | जाँच | उपचार | रोक-थाम | क्या करें | क्या नहीं  आपने अपने आस-पास जरूर कोई ...
Read More
communicable diseases

communicable diseases (संक्रामक रोग) फैलने का मुख्या कारण और रोक-थाम

Communicable diseases (संक्रामक रोग) आपने कभी गौर किया है। कि शहर में या आपके आसपास के कुछ लोग किसी खास ...
Read More
asthma in hindi

दमा (अस्थमा) कारण/लक्षण/बचाव/इलाज Asthma in Hindi

लझण | कारण | प्रकार | जाँच |उपचार |बचाव  अस्थमा (Asthma in Hindi) एक स्वसन तंत्र की बीमारी है। अस्थमा ...
Read More
symptoms of swine flue in hindi

swine flu symptoms in hindi स्वाइन फ्लू के गंभीर लक्षण

प्रमुख लक्षण | बच्चों में दिखने वाले गंभीर लक्षण | व्यस्को में दिखने वाले गंभीर लक्षण | गंभीर लक्षणों के ...
Read More
swine flu in hindi

Swine flu in Hindi-कारण/लक्षण/जाॅच/उपचार

Swine flu in Hindi-पूरी जानकारी swine flu in Hindi कारण | किन व्यक्तियों में है ज्यादा खतरा | जटिलताएं | ...
Read More

मधुमेह के सुरूआती और प्रमुख लक्षण-Diabetes symptoms in Hindi

Diabetes symptoms in Hindi-मधुमेह के प्रमुख लक्षण मधुमेह क्या है? | डायबिटीज के प्रकार |  लक्षण | सावधानियां  हम लोग प्रतिदिन जो ...
Read More

मधुमेह/Diabetes in Hindi-लक्षण,कारण,सावधानियां,प्रकार

Diabetes in Hindi/मधुमेह मधुमेह क्या है? | डायबिटीज के प्रकार | लक्षण | कारण | सावधानियां | क्या करें | ...
Read More


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay Home - Stay Safe

COVID-19